• हिन्दी
  • English
  • ऊंची मजदूरी के बावजूद, लेबर की कमी बरकरार

    16/July/2018   Ply Reporter  

    अप्रैल-मई महीने के दौरान बड़े स्तर पर लेवर संकट खबरों में रहा। कई सालों से यह प्लाइवुड उद्योग में एक नियमित घटना है, लेकिन इस साल, हालात और खराब है और लम्बा खींचने की स्थिति में है। प्लाइवुड निर्माताओं को अपने संयंत्र चलाने के लिए आसानी से पर्याप्त संख्या में लेवर नहीं मिल रहे है। नतीजा प्रदर्शन में कमी है जो अनुमानित औसत क्षमता का 55 फीसदी है। कई इकाइयां लेवर की कमी के कारण एक ही शिफ्ट केवल दिन में चलाने के लिए मजबूर है जिसके कारण उन्होंने लेवर की मजदूरी में वृद्धि की है। मजदूरी में वृद्धि के बावजूद, प्लांट पूरी क्षमता पर संचालित करने के लिए पर्याप्त मैनपावर प्राप्त करने में असमर्थ हैं।

    लेवर के ठेकेदारों ने पुष्टि की है कि मजदूरी में वृद्धि से उन्हें लेवर को इकट्ठा करने में मदद मिल रही है लेकिन कई नए प्लांट के आने के कारण लेवर की जरूरत तीन गुनी बढ़ गई है। एक ठेकेदार के अनुसार 30 नए प्लाइवुड और लैमिनेट्स विनिर्माण इकाइयों ने उत्तर भारत में पिछले एक साल के दौरान उत्पादन शुरू किया है, इस प्रकार लगभग 7000 लोगों की तत्काल आवश्यकता है। अनुमान हैं कि मौजूदा पुराने प्लांट की क्षमता में विस्तार के कारण 15000 से अधिक लोगों की और आवश्यकता है।

    हालांकि प्लाई रिपोर्टर के आकलन के अनुसार पिछले तीन वर्षों के दौरान मजदूरी में लगातार 25 से 30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। प्लाइवुड निर्माताओं ने उन्हें बेहतर आवासीय और कैंटीन सुविधा प्रदान करने के अलावा कुशल श्रमिकों को बनाए रखने के प्रयास में स्वास्थ्य जांच और सुरक्षा सुविधाए भी दे रहे हैं। श्रम लागत में हालिया वृद्धि लगभग 7-8 फीसदी होने की सूचना है जो वास्तव में उत्पाद लागत पर अधिक दबाव डाल रही है।

    ठेकेदारों के मुताबिक, ‘प्लाइवुड और लैमिनेट्स केटेगरी अब अन्य सेगमेंट के बराबर भुगतान कर रहा है इस प्रकार लेवर की कमी आने वाले समय में हल हो जाएगी।‘ हालांकि लेवर काउंट कम करने के लिए, प्लाइवुड उद्योग तेजी से ‘ऑटोमेशन और मॉडर्न मशीनरी‘ को अपना रहे हैं और स्मूथ वर्क फ्लो के लिए बेहतर लेआउट बनाते हैं, फिर भी, प्लाइवुड मैन्यूफैक्चरिंग में अन्य बिडलिंग मेटेरियल इंडस्ट्री की तुलना में एक बड़ी जनशक्ति की आवश्यकता है।

    प्लाइवुड सेक्टर में श्रमिकों को 12000-14000 रु प्रति माह, जबकि कुशल श्रमिकों को हर महीने 18 से 25 हजार रूपए मजदूरी मिल रही हैं, जो 3 साल पहले की तुलना में सीधे 30 प्रतिशत अघिक है, लेकिन अब यह प्लाइवुड के लागत पर बहुत अधिक प्रभाव डालना शुरू कर दिया है। निर्माता लागत में वृद्धि को पारित करने के लिए तत्पर है लेकिन बाजार मांग और आपूर्ति के अनुसार चलता है, इस प्रकार प्लाई रिपोर्टर का मानना है कि प्लाइवुड की कीमतें लगातार बढ़ेगी, इसलिए अपने निगोसिएसन स्किल को बढ़ाएं और बात करने के लिए तैयार रहें।

    Submit your comment