एमडीएफ ने 6 एमएम प्लाइवुड उपयोग को लगभग प्रतिस्थापित कर दिया

person access_time   3 Min Read

प्लाई रिपोर्टर के सर्वे से स्पष्ट रूप से पता चलता है कि एमडीएफ तेजी से 6 मिमी प्लाइवुड के अधिकतर हिस्सा लेता जा रहा है। यह पाया गया कि इकोनोमिकल ग्रेड 6 मिमी प्लाइवुड मैन्यूफैक्चरिंग धीरे-धीरे घट रहा है क्योंकि यह बाजार लगभग एमडीएफ सेगमेंट द्वारा कब्जा कर लिया गया है। मुख्य रूप से लखनऊ, पटना, सिलीगुड़ी, आदि क्षेत्र में स्थित 6 एमएम प्लाइवुड के उत्पादक पुष्टि करते हैं कि उन्होंने 6 मिमी प्लाइवुड के उत्पादन को लगभग बंद कर दिया है क्योंकि इसकी मांग बहुत कम है।

हालांकि, रिपोर्ट से पता चलता है कि ऊंची गुणवत्ता वाले 6 मिमी प्लाइवुड की मांग अभी भी अपने बाजार को बनाए हुए है, इसलिए यदि कोई निर्माता 6 मिमी प्लाइवुड बेचना चाहता है, तो उसे अच्छी गुणवत्ता का निर्माण करना होगा और अच्छे खरीदारों से संपर्क करना होगा। डीलरों का मानना है कि 6 मिमी प्लाइवुड मुख्य रूप से वार्डरोब व फर्नीचर के बैक के लिए उपयोग होता है, जो दीवार से जुड़ा हुआ होता है,जो नमी और टरमाइट से प्रभावित होता है। कम गुणवत्ता वाले 6 एमएम प्लाई, नमी और टरमाइट के प्रति बहुत संवेदनशील होते है, जो वार्डरोब और फर्नीचर को नुकसान पहुंचाता है। एक और डीलर ने कहा कि कम गुणवत्ता वाले 6 मिमी प्लाइवुड
बाजार मेंकम होने के पीछे इस श्रेणी में एमडीएफ के उपयोग का बढ़ना मुख्य कारण है।

यहीं स्थिति 4 मिमी मोटाई वाले प्लाइवुड में भी हुई, जो कम गुणवत्ता के कारण अब पूरी तरह से अन्य पैनलों द्वारा प्रतिस्थापित कर दिया गया है। सर्वे यह भी संकेत देता है कि धीरे-धीरे एमडीएफ 9 मिमी प्लाइवुड के एप्लीकेशन की ओर भी ध्यान दे रहा है, और धीरे-धीरे बढ़ रहा है। एचडीएचएमआर एमडीएफ रेंज प्लाइवुड पर एमडीएफ क्षेत्र की वृद्धि के लिए एक और सम्भावना है, और यदि प्लाइवुड उत्पादक अपनी 12 मिमी मोटाई की गुणवत्ता में सुधार नहीं करते हैं, तो इस प्रवृत्ति के चलते कुछ समय बाद 12 मिमी में भी एमडीएफ की स्वीकृति देखने को मिलेगी।

shareShare article

Post Your Comment