गुणवत्ता ही बरकरार रखेगी प्लाइवुड की मांग!

person access_time   4 Min Read

एमडीएफ और फाइबर सीमेंट बोर्ड में भारी क्षमता वृद्धि का लक्ष्य प्लाइवुड बाजार को टारगेट करना है, जो छोटे व असंगठित प्लाइवुड उत्पादकों के लिए खतरनाक होगा। वे केवल वास्तविक गुणवत्ता वाले उत्पादों का उत्पादन करके प्रतिद्वंद्वियों का मुकाबला कर सकते हैं। आईएस 710 के साथ वास्तविक पीएफ मेटेरियल का उत्पादन, वास्तविक एफआर ग्रेड या गुणवत्ता पर वास्तविक गारंटी प्रदान करना होगा, साथ ही किफायती मूल्य भी अपनाना होगा जो बाजार पर पकड़ बनाए रखने के लिए मदद करेगा। प्लाइवुड निर्माताओं को अपने हिस्से को बरकरार रखने के लिए वास्तविक उत्पाद की पेशकश करनी चाहिए।

फर्नीचर बनाने के लिए प्लाइवुड, भारत में बहुत पुराना मेटेरियल नहीं है, लेकिन अब देश में छोटे ग्रामीण क्षेत्रों में भी इसका व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। पिछले दो दशक, प्लाइवुड मैन्यूफैक्चरिंग मंे ग्रोथ का स्वर्णिम काल रहा, क्योंकि प्लाइवुड एक टिकाऊ इंटीरियर व् फर्नीचर बनाने के लिए एकमात्र विश्वसनीय और उपयुक्त पैनल मेटेरियल साबित हुआ। लगभग 30 हजार करोड़ वार्षिक टर्नओवर के साथ प्लाइवुड उद्योग, अन्य वैकल्पिक मेटेरियल सेगमेंट के तुलना में एक, एक बड़ा बाजार बन गया है। हालांकि कई अलटरनेट पैनल निर्माता आक्रामक रूप से प्लाइवुड के नुकसान और अपने उत्पाद के कई फायदे गिनवा कर, इसे प्रतिस्पर्धा करने में जुटें हैं।

पिछले तीन वर्षों के दौरान, प्लाइवुड ने कम मोटाई वाले सेगमेंट जैसे 4 मिमी, 6 मिमी के उपयोग में एमडीएफ पैनल को मौका दे दिया है। इसी तरह, पार्टिकल बोर्ड ने भी इकोनॉमिकल ग्रेड फर्नीचर सेक्टर में काफी हिस्सेदारी हासिल किया है। इसके अलावा, अन्य उत्पाद जैसे फाइबर सीमेंट बोर्ड, डब्ल्यूपीसी बोर्ड, एचडीएचएमआर ग्रेड एमडीएफ बोर्ड आदि भी जल और टरमाइट प्रूफ उपयोग के लिए प्लाइवुड के विकल्प के रूप में उभर रहे हैं। इन अल्टरनेट पैनल की बढ़ती उत्पादन क्षमता प्लाइवुड बाजार पर हमला कर रही है, और उन्हीं चैनल पार्टनर के साथ मिलकर आक्रामक तरीके से प्लाइवुड पर इन वैकल्पिक पैनलों के लाभ के बारे में बात कर रहे हैं।

एमडीएफ और फाइबर सीमेंट बोर्ड में भारी क्षमता वृद्धि का लक्ष्य प्लाइवुड बाजार को टारगेट करना है, जो छोटे व असंगठित प्लाइवुड उत्पादकों के लिए खतरनाक होगा। वे केवल वास्तविक गुणवत्ता वाले उत्पादों का उत्पादन करके प्रतिद्वंद्वियों का मुकाबला कर सकते हैं। आईएस 710 के साथ वास्तविक पीएफ मेटेरियल का उत्पादन, वास्तविक एफआर ग्रेड या गुणवत्ता पर वास्तविक गारंटी प्रदान करना होगा, साथ ही किफायती मूल्य भी अपनाना होगा जो बाजार पर पकड़ बनाए रखने के लिए मदद करेगा। प्लाइवुड निर्माताओं को अपने हिस्से को बरकरार रखने के लिए वास्तविक उत्पाद की पेशकश करनी चाहिए।

मार्च के इस अंक में हाउसबोट बनाने में प्लाइवुड की जगह सीमेंट फाइबर बोर्ड के इस्तेमान होने की खबर, पाठकों के लिए एक उपयोगी अंतर्दृष्टि हो सकती है। यह अंक समाचार, नए लॉन्च, अपडेट आदि से पूरी तरह से भरा हुआ है जो पूरे वुड पैनल उद्योग के लिए बहुत उपयोगी है जो नए वित्तीय वर्श 2019-20 के लिए आपकी योजना बनाने में भी मदद करेगा।

ग्लोब पैनल इंडस्ट्रीज के निदेशक श्री संजीव अग्रवाल के साथ खास बाचतीच प्रस्तुत है। उत्पादन क्षमता के मामले में भारत के अग्रणी लेमिनेट उत्पादकों में से एक ग्लोब पैनल ने डिजाइन क्रिएशन, गुणवत्ता संवर्धन, सेवा में शीघ्रता, उत्पाद वितरण और निर्यात के आधार पर एक आक्रामक रणनीति के साथ 2021 तक 1000 करोड़ रूपए टर्नओवर का लक्ष्य निर्धरित किया है।

सीपी विनियर के मालिक श्री राकेश चांदना और श्रीमती गीता चांदना तथा नोक्टे विनियर के प्रमोटर श्री प्रकाश नंदू के साथ साक्षात्कार भी डेकोरेटिव विनियर सेगमेंट के लिए पठनीय हैं। डॉल्बी माइका के नए फोल्डर पर युवा और इनोवेटिव श्री मेहुल अग्रवाल के साथ एक संक्षिप्त बातचीत काफी दिलचस्प है। इस अंक में उद्योग और व्यापार की कई घटनाओं को भी चित्रित किया गया है, जिसमें सूरत में आयोजित शिव शक्ति लैमिनेट्स के कार्यक्रम में लगभग 900 डीलर्स के हिस्सा लेने पर एक विशेष रिपोर्ट प्रस्तुत किया गया है, जो कि लैमिनेट व्यापार में अपनी तरह का पहला डीलर्स मीट कहा जा सकता है।

आप सभी को एक अच्छे वित्तीय वर्ष की शुभकामनाएं!

shareShare article

Post Your Comment