सफेदा की कीमतें कम होनें से प्लाइवुड उद्योग की उम्मीदें बढ़ी

person access_time   3 Min Read

पोपलर की बढ़ती कीमत उत्तर भारत के प्लाइवुड उद्योग के लिए चिंताजनक रहा है, लेकिन सफेदा की कीमतें कम होने से उद्योग को चलाते रखने की उम्मीद बढ़ी है। उद्योग का कहना है कि पोपलर की कीमतें अप्रैल महीने से ही बढ़ रही हैं, और पिछले छह महीनों में यह 25 से 30 प्रतिशत तक बढ़ी है, वही उद्योग इस अनुपात में बाजार में अपनी इनपुट कॉस्ट को पारित करने में असमर्थ है और उन्हें दिन व दिन अपने मार्जिन कम करने के लिए मजबूर होना पड़ता है।

उद्योग का कहना है कि पोपलर की बढती कीमतों और अन्य कच्चे माल की लागत ने यमुनानगर और पंजाब स्थित प्लाइवुड उद्योग को तुरंत अपने उत्पादन को कम करने के लिए मजबूर किया था। अधिकांश इकाइयों को केवल दिन के शिफ्ट में चलाने की खबर थी। किराए पर चल रहे कई प्लाइवुड इकाइयों को बंद करने की स्थिति का सामना करना पड़ा, नई इकाइयों ने अपनी ओपनिंग डेट में देरी की और कई नए प्रेस के ऑर्डर अस्थायी रूप से रोक दिए गए या रद्द कर दिए गए। हालांकि, सफेदा की कीमतें हाल ही में घटने के कारण थोड़े समय के लिए प्लाइवुड उद्योग राहत की सांस ले रही है।

पिछले महीनों में, दबाव के चलते प्लाइवुड की कीमतों में 6 से 10 प्रतिषत की वृद्धि की मांग की गई थी। यह ज्ञात है कि विभिन्न राज्यों में निर्माताओं ने तत्काल बैठकें बुलायी और लागत के साथ टिम्बर की कीमत से मेल खाने के लिए कीमतों को तत्काल प्रभाव से 5 से 7 प्रतिशत तक बढ़ाने का फैसला किया। निर्माताओं द्वारा बाजार में संघर्ष करने की सूचना मिली क्योंकि मांग कम है, और पेमेंट भी मुश्किल से मिल पा रहा है, इसलिए तैयार उत्पादों की बढ़ती कीमतों को बाजार में पारित करना उनके लिए मुश्किल दिखा।

हालांकि सफेदा की कीमतों में कमी ने उत्तर भारत में प्लाइवुड उद्योग को बनाए रखने में कुछ राहत प्रदान की है। निर्माता ‘ऑल पोप्लर प्लाई‘ की तुलना में ‘अल्टरनेट प्लाइवुड‘ पर अपना ध्यान स्थानांतरित कर रहे हैं। कई किराए पर चल रहे कारखाने अपने उत्पादन को फिर से शुरू कर रहे हैं क्योंकि किराया भी कम हो गया है।

shareShare article

Post Your Comment