ओवर सप्लाई के चलते एचपीएल कंपनियों को कच्चे माल की बढ़ी कीमतें, बाजार में लागू करने में दिक्कत!

person access_time   3 Min Read

प्लाई रिपोर्टर बार-बार उद्योग के प्लेयर्स को कई वर्षों से लैमिनेट सेगमेंट के बहुत ज्यादा संवेदनशील होने के बारे में लिखता आ रहा है और हमेंशा चेतावनी देता रहा है। अब निर्माताओं द्वारा उन वास्तविकताओं का सामना करते हुए देखा जा रहा है जो गंभीर नुकसान के करीब हैं और कमजोर प्लेयर के प्लांट बंद होने का संकेत दे रहे हैं। फिनोल, फॉर्मल्डिहाइड, बेस पेपर और मोल्ड जैसे कच्चे माल की बढ़ती लागत के कारण पिछले 2-3 महीनों से एचपीएल की मैन्यूफैक्चरिंग कॉस्ट तेजी से बढ़ी है। जुलाई की महीने में यह उम्मीद की गई थी कि उत्पादक बढ़ती लागत के कारण एचपीएल की कीमतें बढ़ाएंगे लेकिन यह अब तक दिखाई नहीं दे रहा है।

बाजार सूत्रों का कहना है कि इस क्षेत्र में बहुत अधिक सप्लाई है, इसलिए उत्पादकों को डर है कि बढी कीमतें पारित करने से उनकी बिक्री घट जाएंगी, इसलिए जब तक वे बर्दास्त कर सकते हैं तब तक वे कच्चे माल की बढ़ी
कीमतों को अवशोषित कर रहे हैं।

वित्तीय क्षमता, मार्केटिंग की योजना और मेटेरियल सप्लाई के मैनेजमेंट स्किल ही अनुभवी और परिपक्व प्लेयर्स को बचाए हुए हैं अन्यथा उपरोक्त विशेषताओं की कमी वाले नए उद्यमी, बाहर निकलते जा रहे हैं। जब प्लाई रिपोर्टर ने कई लैमिनेट उत्पादकों से संपर्क किया तो उद्योग की मिश्रित प्रतिक्रिया प्राप्त हुई। गुजरात स्थित अधिकांश एचपीएल उत्पादकों ने कहा कि उन्होंने अप्रैल-मई महीने के दौरान कई बाजारों में कीमत में वृद्धि की है; इसलिए वे बाजार में कड़ी प्रतिस्पर्धा के कारण कीमत आगे बढ़ाने में असमर्थ हैं। कई अन्य ब्रांड ने अप्रैल-मई महीने के दौरान कीमत में वृद्धि की सूचना दी और अब वे लागत कम करने की कोशिश कर रहे हैं। जबकि उत्तर भारत स्थित एचपीएल उत्पादकों को मुश्किल स्थिति में ओवर सप्लाई के चलते एचपीएल कंपनियों को कच्चे माल की बढ़ी कीमतें, बाजार में लागू करने में दिक्कत! बताया जा रहा है क्योंकि वे अभी भी लंबे समय से एक ही स्तर पर अपनी कीमत रखे हुए हैं।

विशेषज्ञों का कहना है कि अधिक आपूर्ति इस हालात का कारण है क्योंकि एचपीएल उद्योग नए प्रेस और मैन्यूफैक्चरिंग इकाइयों की संख्या में वृद्धि करके साल-दर-साल अपनी विनिर्माण क्षमता बढ़ा रहा है। लाइनर ग्रेड का लैमिनेट बनाना एक हानिकरक व्यवसाय बन गया है, इसलिए उत्पादकों को इस ग्रेड के लैमिनेट्स बनाने में रुचि नहीं है। हालांकि एचपीएल उत्पादन के लिए आधे दर्जन से अधिक नए प्रेस स्थापित किए जा रहे हैं, जो अगले 3-4 महीनों में उत्पादन शुरू कर देंगे। यह एक सत्य लेकिन कड़वा तथ्य है कि एचपीएल सेगमेंट ने अधिक सप्लाई के चलते अपने लाभ मार्जिन, और चमक खो रहा है। प्लाई रिपोर्टर अभी भी आशा करता है कि इल्मा (आईएलएमए) कुछ करेगा और इस मामले पर पुनर्विचार कर क्षेत्रीय एचपीएल वितरकों से इसपर चर्चा करेंगे ताकि आने वाले समय में कुछ उपाय निकाला जा सके।

shareShare article

Post Your Comment