मांग सुधरने से पार्टिकल बोर्ड निर्माताओं को राहत

person access_time   3 Min Read

ओईएम की ओर से बेहतर डिमांड के कारण घरेलू पार्टिकल बोर्ड और प्री-लैम पार्टिकल बोर्ड निर्माता राहत की सांस ले रहे हैं। चेन्नई स्थित एक प्री-लैम बोर्ड निर्माता ने कहा कि दो महीने से मांग में मामूली वृद्धि के संकेत है क्योंकि कर्नाटक और केरल स्थित मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट में पार्टिकल बोर्ड उत्पादन अस्थायी रूप से कम हो गया था। केरल स्थित इकाइयों में उत्पादन, बारिश और बाढ़ से प्रभावित होने और कच्चे माल की कमी के कारण डिस्टर्ब होने की सूचना है।

बैंगलोर स्थित प्री-लैम बोर्ड सप्लायर ने बताया कि मांग मुख्य रूप से ओईएम से ही है, और भुगतान की स्थिति में भी सुधार हुआ है क्योंकि उन्हें कम आपूर्ति के कारण तत्काल मेटेरियल की जरूरत है जबकि खुदरा बाजार में मांग स्थिर है। मौका देखकर, प्री-लैम बोर्ड निर्माता कीमतों में बढ़ोतरी के फिराक में हैं, जो एक साल से लंबित थी। प्री-लैम बोर्ड निर्माता ने पुष्टि की है कि रुपये के मुकाबले डॉलर की कीमतें बढ़ने के कारण, फॉर्मेलिन और मेलामाइन की कीमतें बढ़ी है इसलिए उन्हें कीमतें तुरंत बढ़ाना पड़ेगा।

दूसरी ओर, वुड बेस्ड पार्टिकल बोर्ड में अच्छी मांग को देखते हुए, गुजरात स्थित कुछ उत्पादक अपनी कच्ची सामग्री को बगास से लकड़ी में परिवर्तित कर रहे हैं। अंकलेश्वर के एक निर्माता ने पुष्टि की है कि वह कुछ नई मशीनों को चालू कर रहें है ताकि जब वह चाहें कि वह कच्चे माल की उपलब्धता के अनुसार लकड़ी और बगास दोनों का उत्पादन कर सके। यह विदित है कि गुजरात में एक दर्जन मैन्यूफैक्चरिंग इकाइयां हैं, जिन्हें बगास आधारित पार्टिकल बोर्ड बनाने के लिए स्थापित किया गया है, लेकिन बगास की अनियमित आपूर्ति और भंडारण बोझ उन्हें वुड के लिए भी विकल्प खोजने को मजबूर किया है। बाजार सूत्रों की रिपोर्ट है कि इस साल के अंत तक वुड बेस्ड पार्टिकल बोर्ड की आपूर्ति भारत में सुधर जाएगी।

shareShare article

Post Your Comment