प्रदूषण के चलते दिल्ली-एनसीआर की प्लाई-लैम यूनिट में उत्पादन होगा प्रभावित

person access_time   3 Min Read

प्लाई रिपोर्टर की ग्राउंड रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर स्थित प्लाइवुड, ब्लॉक बोर्ड, फ्लश डोर, डेकोरेटिव विनियर और लेमिनेट की लगभग 200 इकाइयों को प्रदूषण के बढ़ते स्तर और इसके प्रभाव के चलते कुछ हफ्तों के लिए फिर से उत्पादन ठप करने को मजबूर होने का डर है। वैसे औद्योगिक इकाइयां जो कोयला और बायोमास पर आधारित बॉयलरों का उपयोग करने वाली हैं, जब भी प्रदूषण का स्तर लाल निशान को पार करती है उन्हें ठहराव का सामना करना पड़ता है।

डर अधिक है और वास्तव में अधिक चिंताजनक है, जैसे कि प्लाइवुड और लेमिनेट्स उद्योगों ने लंबे समय तक कोविड के लॉकडाउन के बाद अपने उत्पादन को फिर से शुरू किया। श्रमिकों के आने के साथ जुलाई के बाद उत्पादकता स्तर में धीरे-धीरे सुधार हुआ, और यह सितंबर महीने में लगभग कोविड के पहले के स्तर तक पहुंच गया, लेकिन दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण ने सैकड़ों प्लाइवुड और लेमिनेट उत्पादकों में अनिश्चितता का माहौल पैदा कर दिया। दिल्ली एनसीआर स्थित प्लाइवुड और लेमिनेट उत्पादक पिछले दो वर्षों से दिसंबर-जनवरी के दौरान लगभग 1 महीने तक उत्पादन ठप हो जाने का सामना करते आ रहे हैं। इस बार भी ऐसा होने की आशंका के चलते जब तक उत्पादन कर सकते हैं, सभी इकाइयां अपनी क्षमता का अधिकतम उत्पादन करने की कोशिश कर रही हैं।

दिल्ली-एनसीआर प्लाइवुड मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के प्रेसिडेंट विकास खन्ना ने बताया कि यह इन इकाइयों के लिए बहुत ही कठिन कार्य है, और इस साल अगर यह होता है तो मामला और गंभीर हो जाएगा क्योंकि कोविड के चलते प्लांट को मजबूरन बंद होने से इस वित्तीय वर्ष में अपने पूरे 3 से 4 महीने काम खराब होने से भारी नुकसान हुआ, और इसके ऊपर, प्रदूषण की तलवार फिर से लटक रही है, जिससे कई इकाइयाँ आर्थिक रूप से बीमार हो जाएंगी।

एक अनुमान के अनुसार इन युनिटों में उत्पादन का करोड़ों का नुकसान होता है जो इस विकसित होते सेक्टर के लिए महत्वपूर्ण है। दिल्ली-एनसीआर स्थित प्लाइवुड और लेमिनेट्स उद्योग को इसका उपाय ढूँढना चाहिए और गैर-जीवाश्म ईंधन पर आधारित कामकाज को बढ़ावा देना चाहिए, जिसमें बॉयलर में पेटकोक या अन्य प्रदूषणकारी वस्तुओं का उपयोग करने के बजाय सौर ऊर्जा और बिजली के विकल्प शामिल किया जा सके।

प्लाइवुड और लैमिनेट्स उद्योग का कहना है कि वे फायर वुड और कोयले का उपयोग करते हैं, जिसके उत्सर्जन बहुत खतरनाक नहीं है। लेकिन एनजीटी के नियमों में किए गए हालिया बदलाव अब भविष्य के लिए इस क्षेत्र के पूरे प्लाई और लेमिनेट्स इकाइयों के लिए एक चुनौती बन गया है, इसलिए प्लांट को चिह्नित क्षेत्र से दूर स्थानांतरित करना ही एक वास्तविक समाधान है चाहे यह जल्द हो या बाद में।

ज्ञातव्य है कि प्लाइवुड, ब्लॉक बोर्ड, फ्लश डोर, डेकोरेटिव लैमिनेट, डेकोरेटिव विनियर और अन्य उत्पादों को प्रदूषण के रूप में सूचीबद्ध किया गया है। दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में प्रदूषण का स्तर बढ़ने के बाद इनकी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट बंद हो जाएगी।

You may also like to read

shareShare article