एचडी + एमआर ग्रेड एमडीएफ बोर्ड की आपूर्ति घटी

person access_time   3 Min Read

उच्च घनत्व वाली नमी प्रतिरोधी एमडीएफ बोर्ड सबसे तेजी से ग्रोथ करने वाले वुड पैनल उत्पाद के रूप में उभरा हैं, जो कई इंटीरियर एप्लीकेशन खासकर पानी वाले स्थान के लिए प्लाइवुड और पीवीसी/ डब्ल्यूपीसी बोर्ड इत्यादि का हिस्सा आक्रामक रूप से ले रहा हैं। पीवीसी/डब्ल्यूपीसी बोर्डों की ऊँची लागत ने इस उत्पाद की मांग में सुधार करने का एक अच्छा मौका दिया है। बाजार से मिली जानकारी के अनुसार, कई ओईएम और कांट्रेक्टर इन उत्पादों में स्थानांतरित हो गए हैं, जो पहले पीवीसी बोर्ड का उपयोग करते थे। रिपोर्ट के अनुसार, उच्च घनत्व वाले नमी प्रतिरोधी एमडीएफ बोर्ड ने सालाना 25 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि दर्ज की है। लेकिन, इस उत्पाद की बढ़ती मांग से मेटेरियल की उपलब्धता कम होने की सूचना है।

प्लाई रिपोर्टर टीम के हालिया सर्वे से संकेत मिलता है कि यह मेटेरियल वुड पैनल उत्पादों में ’हॉटकेक’ बन गया है क्योंकि मांग से कम सप्लाई होने की खबर है। डीलरों का कहना है कि बाजार में अच्छी डिमांड के चलते कंपनियों से इन मेटेरियल को मिलने के लिए 45 से 60 दिनों का इंतजार करना पड़ रहा है। टेसा एचडीएचएमआर बोर्ड इस सेगमेंट में अग्रणी हैं, और ग्रीनपैनल एचडीडब्ल्यूआर और सेंचुरी प्रोवुड प्रीमियम प्लस यूजर्स में बहुत लोकप्रिय हैं। क्रॉसबॉन्ड, पायनियर पैनल्स, एडलर वुड आदि जैसी अन्य एमडीएफ कंपनियां भी इन मेटेरियल की पेशकश कर रही हैं। रिपोर्ट के अनुसार, अधिकांश कंपनियों के पास इस उत्पाद के कम से कम 30 दिनों के ऑर्डर पेंडिंग हैं, हालाँकि यह प्रोडक्ट केटेगरी ने भी सालाना 25 प्रतिशत से अधिक की मूल्य वृद्धि दर्ज की है।

विशेषज्ञ यह भी कहते हैं कि कंटिन्युअस प्रेस लाइनों वाली बड़ी कंपनियांउच्च घनत्व वाली नमी प्रतिरोधी एमडीएफ बोर्ड का उत्पादन करने में थोड़ा हिचकिचाती हैं क्योंकि रेगुलर एमडीएफ बोर्ड की तुलना में उनकी क्षमता उपयोग में गिरावट आ जाती है, इसलिए यदि उनके पास एमडीएफ के अच्छे ऑर्डर हैं, तो उन्होंने स्पेशल केटेगरी में स्विच करने में दिक्कत आती है, इसलिए रिपोर्ट के अनुसार इन बोर्डों के उत्पादन की एक सीमा है जबकि 200 से 250 उत्पादन क्षमता वाली कम्पनी अपना 30 से 40 प्रतिशत उत्पादन इस तरह के बोर्ड बनाने के लिए ही रखते हैं, लेकिन इन बोर्डों की मजबूत मांग ने बाजार में इसकी पेंडेंसी पैदा कर दी है, जिसमें शायद जल्द ही कोई राहत की उम्मीद नहीं है।

You may also like to read

shareShare article
×
×