ऑड-इवन फार्मूले के तहत खुलती हैं, दिल्ली की प्लाई-लैम दुकानें, डीलर्स ने कहा भय का माहौल कम होगा

person access_time   3 Min Read

लॉकडाउन 4.0 के तहत दी गई राहत के साथ 19 मई से दिल्ली में विभिन्न क्षेत्रों में प्लाइवुड, लेमिनेट, फर्नीचर और लकड़ी के बाजार भी ऑड-इवन फार्मूले के साथ खोले गए हैं। अलग-अलग क्षेत्र के व्यापारियों और डीलरों के अनुसार, स्थानीय प्रशासन बाजार के सभी क्रियाकलाप पर नजर रखे हुए है। दुकानदारों तथा थोक विक्रेताओं को दुकानों को खोलने के लिए एक दिन छोड़ कर समयबद्ध संचालन के लिए सहमति के साथ राहत दी गई है। सभी को सुरक्षा मानकों के दिशा निर्देष पूरी तरह पालने करने को कहा गया है। प्लाई रिपोर्टर ने कीर्तिनगर, मुंडका, रामा मार्केट, कोटला, यमुनापार समेत कई बाजार का जायजा लिया, और कई दुकानदारों से बात की।
कीर्तिनगर प्लाइवुड एंड टिम्बर डीलर्स एसोसिएशन, दिल्ली के प्रधान कांति पटेल ने बताया कि बाजार में मिलीजुली प्रतिक्रिया है। बड़े काउंटर में बेहतर फुटफॉल नहीं दिख रहा है, लेकिन वे पुराने लंबित आॅर्डर डिस्पैच कर रहे हैं और छोटे रिटेल काउंटर पर कुछ गतिविधियां देखी जा सकती हैं। उम्मीद है कि यह एक शुरुआत है और आने वाले दिनों में धीरे-धीरे स्थिति बेहतर होगी। वास्तव में ऑड-इवन फार्मूले के साथ दुकानंे खुलने से भी लोग शुरुआत में असमंजस की स्थिति में हैं, लेकिन एक दो सप्ताह में यह सामान्य हो जाएगा। वेंचुरा के प्रशांत माहेश्वरी ने बताया कि उन्होंने अभी अपने पुराने आॅर्डर की सप्लाई इस दौरान की है, लेकिन नए ग्राहक आने मंे अभी वक्त लग सकता है।  

बाजार से प्राप्त रिपार्ट के मुताबिक, इन चार दिनों में लगभग 15 फीसदी तक की सेल रही है, और हालात धीरे धीरे सुधरेंगे। वास्तव में वर्तमान बिक्री केवल डेकोरेटिव और फिनिशिंग के लिए पेंडिंग आर्डर के ही हैं। व्यापारियों ने बताया कि वे दिल्ली एनसीआर और अन्य राज्यों में अपने पिछले आर्डर को भेजने में असमर्थ हैं, क्योंकि राज्य की सीमायें सील है, लेकिन उम्मीद है कि इसे 31 मई के बाद खोला जाएगा। आर्यन सेल्स के अजित शुक्ला ने बताया कि सरकार का यह प्रयास अच्ध्छा है, इससे डर का माहौल कम होगा, और ग्राहकों का भी आने का सिलसिला शुरू होगा और बाजार में रौनक लौट आएगी।
असम गली मार्केट, मुंडका स्थित ए के लंबर के अमित जिंदल ने बताया कि बाजार खोलने का फैसला अच्छा है, और सभी सुरक्षा के नियमों का पालन किया जा रहा है, ग्राहकी काफी कम है, लेकिन जैसे जैसे डर का माहौल कम होगा, बाजार में मांग बढ़ेगी। प्लाई महल के पंकज कुमार ने बताया कि रेडिमेड फर्नीचर के ग्राहक नहीं आ रहें हैं, लेकिन मेटेरियल की मांग आई है, और हमलोग एडवांस पेमेंट पर ही नया माल भेज रहें हैं। आॅड-इवन नियम का पूरा पालन हो रहा है। कोटला स्थित सेवाराम एंड कंपनी के मनोज गोयल ने बताया कि बाजार में अभी ग्राहकी जरूर कम हैं, लेबर की भी दिक्कत है, लेकिन बाजार खुलना चाहिए, इससे डर का माहौल कम होगा, और बाजार में ग्राहक भी आने लगेंगे।   

कृति नगर स्थित के. एस. इंटरप्राइजेज के श्री कुलवंत सिंह ने कहा बाजार मंे ंगति आने में समय लगेगा और जब आस-पास के राज्यों की सीमाएं खुली रहेंगी, तभी आने वाले दिनों में हम बाजार बेहतर होने की उम्मीद कर सकते हैं। हमने दो दिनों में केवल एक-दो लंबित आर्डर ही भेजे हैं। मुनिरका में धर्मवीर फर्नीचर हॉउस के जीतेन्द्र सिंह ने बताया कि कुछ पुराने ग्राहकों के फोन आने शुरू हो गए, हो सकता है शनिवार और रविवार छुटी के दिन से ग्राहकों का आना शुरू होगा। अगले 15 दिन बाद हालात में सुधार देखने को मिलेगा। बाहर के पेंडिंग आर्डर हैं लेकिन बॉर्डर सील होने की वजह से मेटेरियल नहीं भेज सकते, क्योंकि हमारा माल आवश्यक वस्तुओं की कैटेगरी में नहीं आता। अगले सप्ताह ही बाजार का सही आकलन लगाया जा सकता है। 

 

WIGWAM, Savitri Woods

You may also like to read

shareShare article