एल्यूमिनियम कम्पोजिट पैनल की रिकवरी अनुमान से ज्यादा

person access_time   4 Min Read

जब एसीपी निर्माताओं ने कोविड के बाद परिदृश्य के बारे में बात की थी तो एसीपी सेक्टर को काफी नुकसान होने का अनुमान लगाया गया था। कंपनी के मालिकों और विशेषज्ञों का मानना था कि प्रोजेक्ट और कमर्शियल बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन लेवर और फंड की कमी के कारण कोविड से पहले की सामान्य स्थिति तक पहुंचने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ेगा। लेकिन पिछले दो महीनों में ब्रांडेड सेगमेंट की बिक्री को देखते हुए, यह साबित हो गया कि अगस्त तक एसीपी सेगमेंट में 70 से 75 प्रतिशत तक रिकवरी है। अलस्टोन, एलस्ट्रॉन्ग, अलुडेकोर, विवा, यूरोबांड, टाइमेक्स इत्यादि के सूत्रों से पता चलता है कि सरकार, उद्योग, राजमार्गों सहित कई परिवहन, कमर्शियल और ऑफिस स्पेस कंस्ट्रक्शन साइटों की तुरंत शुरु होने के कारण पिछले तीन महीनों में प्री-कोविड वॉल्यूम की 70 से 75 फीसदी बिक्री तक पहुंच गई है। यह भी उतना ही सच है कि टियर 2, टियर 3 शहरों में से कई में तेजी से रिकवरी के कारण प्रीमियम उत्पादों की तुलना में एसीपी उत्पादकों के औसत गुणवत्ता वाले मेटेरियल की मांग अधिक है।

एलेस्टोन एसीपी के निदेशक श्री पवन गर्ग ने कहा कि वे केवल हाई क्वालिटी एसीपी का उत्पादन करते हैं, और पिछले 3 महीनों में बिक्री 75 फीसदी तक पहुंच गई है, उनके पास अच्छी गुणवत्ता वाले डेकोरेटिव एसीपी के बहुत सारे ऑर्डर हैं, क्योंकि हम पार्टीशन पैनल नहीं बनाते। एनसीआर के एक बिल्डर का कहना है कि एसीपी बहुत किफायती एक्सटेरियर मेटेरियल है, क्वालिटी के अनुसार 55 से 65 रूपए की रेंज उपलब्ध है, और यह तेज निष्पादन के लिए उपयुक्त है, साथ ही इसकी सप्लाई भी अच्छी है।

हालांकि, अनलोक के बाद पार्टीशन पैनलों की खुदरा मांग भी अच्छी बताई गई थी, क्योंकि अस्थायी कोविड होम, अस्पताल, केबिन, बाथरूम और डोर बनाने के लिए बड़े पैमाने पर इसका उपयोग किया जा रहा है। डिवीजन पैनल सेगमेंट ने फ्रेश डिमांड,आक्रामक मूल्य निर्धारण, अच्छी आपूर्ति के साथ-साथ काम करने में आसानी के कारण इसके बिक्री के ८० फीसदी के स्तर तक पहुंचने की सूचना है। 40 से अधिक एसीपी मैन्युफैक्चरिंग प्रतिष्ठानों के साथ, भारत में डिवीजन पैनलों की पर्याप्त आपूर्ति है, जो कि 32 से 36 रूपए की रेंज में बाजार में उपलब्ध है।

2200 करोड़ रुपये वाली एसीपी इंडस्ट्री अपने 40 से ज्यादा मैन्युफैक्चरिंग प्रतिष्ठानों के साथ अनलॉक के बाद प्री कोविड के लगभग 60 फीसदी क्षमता उपयोग तक पहुंच गया है, जो इस उभरते सेगमेंट के लिए रिकवरी का अच्छा संकेत है। यद्यपि क्वालिटी प्रोडूसर ब्रांडों ने बताया कि यदि भविष्य में विकासऔर गुणवत्ता उत्पाद की मांग पर विचार करें तो अभी लम्बा सफर तय करना है।

You may also like to read

shareShare article