वुड कम्पोजिट उत्पादों से फार्मल्डिहाइड उत्सर्जन पर कैपिंग के लिए स्वदेशी समाधान

person access_time   3 Min Read

नेटवर्क फॉर सर्टिफिकेशन एंड कंजर्वेशन ऑफ फॉरेस्ट्स (एनसीसीएफ) ने 12 दिसंबर 2020 को ‘‘वुड कम्पोजिट उत्पादों से फार्मल्डिहाइड उत्सर्जन के कैपिंग के लिए स्वदेशी समाधान‘‘ पर एक वेबिनार का आयोजन किया, जो सेफबोर्ड मानकों को विकसित करने की उनकी पहल का एक हिस्सा था। प्रस्तावित मानकों का अनुपालन करने वाले प्रमाणित वुड कम्पोजिटउत्पाद मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण पर इसके हानिकारक प्रभावों को कम करेंगे और भारतीय उत्पादों को अंतर्राष्ट्रीय वैल्यू एडेड बाजारों में लाने में सक्षम होंगे।

वेबिनार के दौरान केपेक्सिल, ईपीसीएच, प्लाइवुड उद्योग, हेंडीक्राफ्ट, फर्नीचर और टाॅय निर्माताओं, वुड कम्पोजिट उत्पादों के व्यापारियों, विशेषज्ञों और वरिष्ठ प्रतिनिधियों ने वैश्विक जरूरतों के अनुसार ऐसे मानक की आवश्यकता और महत्व पर विचार-विमर्श किया। एनसीसीएफ का सेफबोर्ड मानक (अभी बनने की प्रक्रिया में है) स्कीम वुड कम्पोजिट उत्पादों को अंतरराष्ट्रीय बाजार में लाने की प्रक्रिया और संबंधित उद्योगों जैसे प्लाइवुड, एमडीएफ, पार्टिकल बोर्ड आदि के उत्पाद के विकास में मदद करती है। यह मानव स्वास्थ्य की बेहतरी के लिए फार्मल्डिहाइड उत्सर्जन में कटौती करती है और समग्र वातावरण को सुरक्षित बनाती है।

वेबिनार के दौरान स्टेकहोल्डर्स ने स्वदेशी सेफबोर्ड मानक पर अपने बहुमूल्य इनपुट दिए। एचपीएमए के अध्यक्ष श्री जेके बिहानी ने कहा कि दुनिया के साथ चलना अच्छा है लेकिन अगर रेजिन रैंक में नहीं आता है तो क्या किया जाएगा। मुझे लगता है, मेटेरियल के लिए मानक होना चाहिए। हम गुणवत्ता के लिए मानकों और टेस्टिंग के बारे में जागरूकता भी फैला रहे हैं और चैम्बर विधि विकसित की है, साथ ही सरकार के सहयोग से 20 करोड़ रुपये की एक एनएबीएल लैब स्थापित की है। इसपर चर्चा के दौरान अधिकारीयों ने भ्च्ड। के पहल की सराहना की और कहा कि वे इस मामले पर पहले ही चर्चा करेंगे। सेफबोर्ड स्टैंडर्ड  केवल वुड कम्पोजिट उत्पादों से फार्मल्डिहाइड उत्सर्जन के लिए कंपनियों द्वारा स्वेच्छा से ही लागू किया जा सकता है।

फेडरेशन ऑफ इंडियन प्लाइवुड एंड पैनल इंडस्ट्री (एफआईपीपीआई) के तकनीकी सलाहकार सी एन पांडे ने कहा कि एमडीएफ और पार्टिकल बोर्ड के लिए पहले से ही बीआईएस है, हमें कच्चे माल की स्थिरता पर ध्यान देना चाहिए, क्योंकि पोपलर और सफेदा उस मानक के नहीं हैं। इसके लिए एनसीसीएफ के अधिकारी ने कहा कि बीआईएस उत्पाद की गुणवत्ता के लिए है, लेकिन सेफबोर्ड फॉर्मेल्डिहाइड के लिए होगा और उद्योग को वैल्यू ऐडिशन के लिए सिस्टम सपोर्ट प्रदान करेगा। असंगठित उद्योग के मामले पर उन्होंने कहा, ‘‘यदि असंगठित प्लेयर को निर्यात करने की आवश्यकता है तो उन्हें अन्य मानक पर भी ध्यान केंद्रित करना होगा।‘‘ वेबिनार के दौरान मानक प्रक्रिया और टेक्नोलॉजी तथा इसके फायदे के बारे में एक प्रेजेंटेशन भी दी गई जिसमें यह बताया गया कि यह देश में वुड कम्पोजिट उत्पाद के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार में यह कैसे मदद करेगा।

You may also like to read

shareShare article