यूरिया फॉर्मल्डिहाइड रेजिन का उपयोग कर कोल्ड प्रेस में प्लाइवुड पैनल का प्री प्रेसिंग

person access_time   3 Min Read

आधुनिक प्लाइवुड उत्पादन में अब प्री-प्रेसिंग एक स्टैंर्डड प्रैक्टिस में शामिल हो गया है। यदि प्री-प्रेस किये गए पैनल का समेकन अच्छा है, तो इसके कई फायदे मिल सकते हैं। एक कई डेलाइट वाले हॉट-प्रेस में विनियर केढेर को स्थानांतरित करने से पहले रेजिन के कोल्ड टैक  के लिए एक कोल्ड प्रेस में प्लाइवुड पैनलों को प्री-प्रेसकरना आम बात है। रेजिन के मिश्रण को मिलाने के बाद विनियर को एक साथ चिपकाने के लिए यह प्रक्रिया और एडहेसिव का कोल्ड टैक आवश्यक है। हॉट-प्रेस में इसको फीड करने के लिए पर्याप्त कोल्ड टैक आवश्यक है, विशेष रूप से प्लाइवुड पैनल के उत्पादन में, जहां ग्लूड विनियर की परतों को प्रेस के अलग अलग ओपनिंग में फिट होने के लिए एक साथ रखना पड़ता है।

एक पैनल ले-अप के भीतर एक विनियर का अंातरिक संपर्क बनाने के लिए, रेजिन के कोल्ड टैक के लिए कुछ जरूरतों को पूरा करना पड़ता है। प्रक्रिया में हॉट प्रेस से पहले ग्लू कोटेड और नॉन कोटेड विनियर के बीच एक अस्थायी बॉन्ड फार्मेशन होता है। इस छोटी प्रेसिंग साईकिल के दौरान विनियर असेम्ब्ली इसकी फाइनल थिकनेस तक संकुचित हो जाती है। प्री-प्रेसिंग के दौरान बॉन्ड फार्मेशन के समय पानी का हटना एडेसिव के ग्लूइंग का परिणाम है, हालांकि, रेजिन का फाइनल क्योरिंग इस चरण में नहीं होता है।

प्लाइवुड उत्पादन में वांछित मेटेरियल के प्रॉपर्टीज के आधार पर विभिन्न प्रकार के एडेसिव का उपयोग किया जाता है। फिनोल फॉर्मल्डिहाइड (पीएफ) रेजिन फिनोल-प्लास्टिक बाइंडर्स के समूह से संबंधित हैं और इसके हाई वाटर और वेदर रेजिस्टेंस होने के लिए इसकी सराहना की जाती है। यूरिया फॉर्मल्डिहाइड (यूएफ) रेजिन अमीनो प्लास्टिक बाइंडर के समूह से संबंधित है जो वुड इंडस्ट्री के लिएसबसे महत्वपूर्ण है। अनमॉडिफाइड यूएफ रेजिन को तब लगाया जाता है, जब अंतिम उत्पाद का उपयोग सीमित पानी प्रतिरोध के साथ इंटीरियर के लिए किया जाता है। यूएफ रेजिन को आसानी से संभालना, कम कीमत और व्यापक रूप से उपलब्ध है। इसके अलावा, वे ड्राई कंडीशन में बांड को हाई स्ट्रेंथ प्रदान करते हैं। यूएफ का एक और फायदा कोल्ड टैक है, जिसपर वर्तमान अध्ययन केंद्रित है।

प्लाइवुड के उत्पादन में कोल्ड प्रेस में प्री-प्रेसिंग के दौरान विनियर आपस में चिपके हैं या नहीं, यह सुनिश्चित करने के लिए यूरिया फॉर्मल्डिहाइड (यूएफ) रेजिन की कोल्ड टैक्ट विकसित करने की क्षमता होना आवश्यक है ताकि इसे कई डेलाइट हॉट प्रेस में डाला जा सके।

किसी अन्य सरफेस के संपर्क में आने पर तुरंत एक बॉन्ड बनाने के लिए रेजिन का टैक आमतौर पर कोल्ड टैक होता है। यूएफ का कोल्ड टैक विभिन्न एडेसिव के कई लक्षणों जैसे सिन्थेसिस की प्रक्रिया, एडेसिव की आयु, एडिटिव्स को मिलाना या ओपन असेम्ब्ली टाइम के साथ साथ चिपकने वाले वास्तु की प्रकृति जैसे लकड़ी की प्रजाति, मॉइस्चर कंटेंट, सतह की उम्र, ड्राईंग मैकेनिजम, ग्लू लाइन का पीएच जैसे संबंधित कारकों से प्रभावित हो सकता है।

यूएफ रेजिन का ठंडा होना इसके मोलर अनुपात थ्ध्न् पर निर्भर करता है, इसलिए किसी रेजिन के कुकिंग के समय खास कुकिंग प्रक्रिया के माध्यम से या रेजिन में पोलीमेट-888 जैसे एडिटिव्स को रेजिन बूस्टर के रूप में शामिल कर हाई कोल्ड टैक या हाई विस्कॉसिटी हासिल किया जा सकता है।

अध्ययन कहता है कि पैनल की सतह पर लगाए गए रेजिनका ड्राईंग विहेवियर यूएफ रेजिन के साथ कोल्ड टैक विकसित करने के लिए महत्वपूर्ण है। यह ड्राईंग विहेवियर समय पर निर्भर होता है, जो एक निश्चित समय के बाद अधिकतम दिखाता है, और जब यह अधिकतम से अधिक होता है तो कोल्ड टैक में कमी आने लगती है। यद्यपि कोल्ड टैक का व्यवहार महत्वपूर्ण है, लेकिन प्लाइवुड उत्पादन के लिए कोल्ड टैक के व्यवहार पर जानकारी की कमी है।

यह अध्ययन प्लाइवुड उत्पादन के लिए यूएफ के कोल्ड टैक की बेहतर समझ के लिए की गई है। रेजिन के सुखने की प्रक्रिया कोल्ड टैक के लिए महत्वपूर्ण है, जो कई बातों जैसे ले-अप टाइम, रेजिन की मात्रा, रेजिन का उम्र, मॉइस्चर कंटेंट, विनियर का तापमान और प्री-प्रेस टाइम पर निर्भर हो सकता है। इन बातों के साथ कोल्ड टैक में बदलाव की बेहतर समझ प्लाइवुड उत्पादन में बेहतर नियंत्रण हासिल करने में योगदान देगी।

उच्च तापमान, रेजिन की ज्यादा मात्रा और कम ले-अप टाइम पर हाई टेंसाइल सियर स्ट्रेंथ की फिर से जांच की गई, लेकिन इसमें कोई महत्वपूर्ण बदलाव नहीं दिखा। इसके साथ ही अन्य कारको पर भी विचार किया गया जैसे (1) ले-अप टाइम और मॉइस्चर कंटेंट (2) रेजिन की मात्रा और मॉइस्चर कंटेंट, (3) ले-अप टाइम, रेजिन की उम्र और रेजिन की मात्रा तथा (4) ले-अप टाइम, रेजिन की मात्रा और विनियर का तापमान इत्यादि जो महत्वपूर्ण के रूप में चिह्नित किए गए थे।

अध्ययन के अनुसार टेंसाइल सियर स्ट्रेंथ पर मॉइस्चर कंटेंट का सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है, इसके बाद विनियर के तापमान का प्रभाव पड़ता है। मॉइस्चर कंटेंट बढ़ने से टेंसाइल सियर स्ट्रेंथ पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जबकि विनियर का तापमान बढ़ने से सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। ये कारक कम मॉइस्चर कंटेंट या उच्च तापमान पर टेंसाइल सियर स्ट्रेंथ बढ़ने का संकेत देते हैं। यह ऊंचे तापमान पर तेजी से पानी हटाकर और सॉलिड कंटेंट में वृद्धि कर हाई कोल्ड टैक पैदा करने में मदद करता हैं। ले-अप टाइम के साथ थोड़ा नकारात्मक प्रभाव देखा गया, जिसे कोल्ड टैक विकसित करने के लिए रेजिन के ड्राई होने के महत्व से समझाया जा सकता है, सूखने की प्रक्रिया, हालांकि, एक निश्चित समय से अधिक नहीं हो सकती है, क्योंकि कोल्ड टैक फिर से कम हो जाती है। इस मॉडल पर रेजिन की मात्रा भले ही एक मुख्य कारक हैं, लेकिन मॉइस्चर कंटेंट से मामूली नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जिससे यह अनुमान लगता है कि हाई मॉइस्चर कंटेंट और रेजिन की मात्रा अधिक होने से टेंसाइल सियर स्ट्रेंथ कम हो जाती है।

इस अध्ययन के परिणामों के आधार पर यह साबित हुआ कि ले-अप टाइम, विनियर मॉइस्चर कंटेंट, विनियर का तापमान, और प्री-प्रेस टाइम, के साथ (1) ले-अप टाइम और मॉइस्चर कंटेंट के साथ साथ (2) रेजिन की मात्रा और मॉइस्चर कंटेंट, का टेंसाइल सियर स्ट्रेंथ पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव डालता हैं और इस प्रकार, यही प्रभाव यूएफ रेजिनके मिश्रण के कोल्ड टैक पर पड़ता हैं।

हॉट प्रेसिंग से पहले प्री-प्रेसिंग के कई महत्वपूर्ण फायदे हैं जैसे इससे डिफेक्टिव प्लाइवुड का बनना, रिपेरिंग, रिपेरिंग कॉस्ट कम हो जाता हैं, स्टीम पॉकेट में कमी आती हैं, उत्पादन क्षमता में वृद्धि होती हैं, और विनियर की बचत होती हैं। अच्छा प्री-प्रेस टैक प्राप्त करने के लिए एडेसिव क्वालिटी और इसका प्रसार, विनियर के तापमान, विनियर का मॉइस्चर कंटेंट, असेम्ब्लिंग टाइम और प्रक्रिया एक दूसरे से कोरिलेट होना चाहिए, जो आमतौर पर उत्पादन बढ़ाने और उपकरण की क्षमता बनाए रखने के लिए आवश्यक है।

You may also like to read

shareShare article