महामारी के बावजूद, गेबॉन एसईजेड में वुड प्रोसेसिंग वॉल्यूम 5 फीसदी बढी

person access_time   4 Min Read

अन्य जगहों के विपरीत गेबाॅन स्थित एनकोक एसईजेड में वर्ष 2020 में वुड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री ने अच्छा प्रदर्शन किया है। कोविड-19 के महामारी के चलते अनेक मुश्किलों के बाबजूद एनकोक एसईजेड में वर्ष 2019 में 671000 सीबीएम के मुकाबले 2020 में 704000 सीबीएम वुड प्रोसेसिंग कर, तकरीबन 5 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की है। 2020 में एनकोक एसईजेड से कुल 417,000 सीबीएम लकड़ी के उत्पादों का निर्यात किया गया था, जिसमें विनियर, साॅ टिम्बर, प्लाइवुड और फर्नीचर शामिल थे। यह गैबाॅन से कुल लकड़ी के उत्पादों के निर्यात का लगभग 45 फीसदी है।

ओकूमे विनियर का निर्यात

2017 के बाद एनकोक एसईजेड से विनियर उत्पादन और निर्यात की वार्षिक वृद्धि 15 फीसदी से अधिक रही है। एनकोक एसईजेड स्थित 35 इकाइयों से लगभग 253,000 सीबीएम विनियर का निर्यात दुनिया भर के 35 से अधिक देशों में किया गया। पिछले कुछ वर्षों जैसा निर्यात के मामले में भारत भी शीर्ष पर है जहां कुल उत्पादन का 45 फीसदी निर्यात होता है। हालांकि, 2019 में भारत में निर्यात 173,000 सीबीएम से घटकर 2020 में 114,000 सीबीएम हो गई, जबकि यूरोप और चीन में विनियर का निर्यात 2019 के मुकाबले 2020 में क्रमशः में 63 फीसदी और 32 फीसदी की वृद्धि देखी गई।

2020 में यूरोप में लगभग 37,500 सीबीएम विनियर का निर्यात होने का अनुमान है, जबकि चीन में विनियर का निर्यात 2019 में 49,200 सीबीएम के मुकाबले 2020 में बढ़कर 65,200 सीबीएम हो गयाा। 2019 में लगभग 2,600 सीबीएम के न्यूनतम वॉल्यूम के मुकाबले 2020 में जापान, दक्षिण कोरिया और ताइवान में विनियर का निर्यात लगभग 10,000 सीबीएम था। विनियर निर्माताओं का फोकस भारतीय बाजार से यूरोपीय और अन्य बाजार में होने का मुख्य कारण भारतीय बाजार की तुलना में वहां ओकूमे विनियर की ऊंची कीमत होना हो सकता है। एनकोक एसईजेड स्थित कई विनियर निर्माताओं ने यूरोपीय और अन्य हाई वैल्यू मार्केट में सप्लाई के लिए अपनी उत्पादन सुविधाओं को उन्नत किया है।

ओकूमे और हार्डवुड सॉ टिम्बर का निर्यात

2017 के बाद से एनकोक एसईजेड से सॉ टिम्बर के निर्यात में सालाना 40 फीसदी से अधिक की वृद्धि हुई। वर्ष 2020 में, दुनिया भर के 30 से अधिक देशों में यहां के 13 इकाइयों से 148,000 सीबीएम सॉ टिम्बर का निर्यात किया गया। चीन कुल उत्पादन के 54 फीसदी हिस्सेदारी के साथ सॉ टिम्बर का शीर्ष निर्यातक रहा। 2020 में यूरोप में हार्ड वुड का निर्यात लगभग 11,500 सीबीएम रहा, जो 2019 के मुकाबले 129 फीसदी ज्यादा था। एनकोक एसईजेड में सॉ मिल ऑपरेटर अपने वर्तमान उत्पादन में वैल्यू एडिशन के लिए अपनी सुविधाओं को अपग्रेड करने की योजना बना रहे हैं, ताकि वे अपने सॉ टिम्बर को फ्लोरिंग, डेकिंग, डोर और डोर फ्रेम आदि जैसे कंस्यूमर प्रोडक्ट में बदला जा सके।

चुनौतियां और आगे की राह

लॉग टिम्बर के कई ट्रेनों के पटरी से उतरने के कारण जंगलों से एनकोक एसईजेड के लिए लॉग सप्लाई में दिक्कते हुई। गेबॉन में ट्रेन के ऑपरेटर SETRAG ने इस मामले को गंभीरता से लिया है और अब रेलवे के पटरियों को मजबूत करने पर काम कर रहा है। इन परिचालनात्मक सुधारों के साथ गेबॉन के विभिन्न स्थानों से एनकोक एसईजेड में लॉग ट्रांसपोर्ट की मात्रा 2017 में मात्र 50,000 सीबीएम से बढ़कर 2020 में लगभग 300,000 सीबीएम हो गया है। सुधारात्मक कार्य पूरी होने के बाद ट्रेनों की परिचालन दक्षता बढ़ जाएगी, तब लॉग्स लाने के लिए रेलवे ट्रैक और ट्रेनों के रूट को मजबूत कर 440,000 सीबीएम से अधिक करने के लिए बजट का निर्धारण किया गया है।

ळैमर्् अपने लॉग ट्रक फ्लीट में वृद्धि कर रहा है और सड़कों के रास्ते एनकोक एसईजेड को लॉग सप्लाई के लिए 2021 में बजट निर्धारण कर लगभग 500,000 सीबीएम की गई है। ळैमर्् जून और जुलाई के बीच अपने 100 लॉग ट्रकों के अलावा साठ (60) और लॉग ट्रकों को शामिल करेगा।

वर्ष 2021 में लाॅग हार्वेस्टिंग के लिए पांच (5) नई वन रियायतें दी गई हैं। इन वन रियायतों में कुल क्षेत्र 800,000 लाख हेक्टेयर है, जहां से प्रति माह 17000 सीबीएम अतिरिक्त लाॅग की आपूर्ति की जाएगी, जिससे एनकोक एसईजेड को वर्तमान कुल लॉग की सप्लाई 60,000 सीबीएम प्रतिमाह के मुकाबले 2021 की तीसरी तिमाही में 80,000 सीबीएम प्रति माह तक पहुंचने की संभावना है।

अच्छी खबर

सेंचुरी प्लाई ने एनकोक एसईजेड में अपनी विनियर मैन्युफैक्चरिंग यूनिट में दो अन्य विनियर यूनिट्स के साथ जनवरी 2021 में उत्पादन शुरू किया। उत्पादन शुरू होने के सिर्फ दो महीनों के भीतर, सेंचुरी भारत के अलावा अन्य हाई वैल्यू मार्केट में सप्लाई करने के लिए अपनी फैसिलिटी को उन्नत करने की योजना बना रही है।

एनकोक एसईजेड से प्लाइवुड के उत्पादन और निर्यात में काफी वृद्धि देखी गई है। 2019 में इनकी निर्यात की मात्रा की तुलना में इन इकाइयों से कुल प्लाइवुड का निर्यात दोगुना हो गया। भारतीय निवेशक स्टार प्लाई ने 2020 में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया और मुख्य रूप से यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका के बाजार में लगभग 10,000 सीबीएम प्लाइवुड का निर्यात किया। वे अब अपनी उत्पादन क्षमता का विस्तार कर रहे हैं और लगभग 50,000 सीबीएम वार्षिक उत्पादन क्षमता तक पहुंचने की संभावना है। पांच और प्लाइवुड इकाइयां निर्माणाधीन हैं, जहां इस वर्ष उत्पादन शुरू होने की संभावना है। एनकोक से कुल प्लाइवुड निर्यात 2020 में लगभग 13,000 सीबीएम से 2022 में 100,000 सीबीएम तक पहुंचने का अनुमान है।एनकोक एसईजेड स्थित पार्टिकल बोर्ड का प्लांट कंस्ट्रक्शन अपने एडवांस स्टेज में है जहां 2021 की तीसरी तिमाही में उत्पादन होने की सम्भावना है। यह संयंत्र पैनल-बेस्ड फर्नीचर मैन्युफैक्चरिंग के लिए आवश्यक प्रोत्साहन प्रदान करेगा।

गैबॉन के राष्ट्रपति ने 2018 में घोषणा की थी कि गैबॉन में सभी वन रियायतें 2022 तक 100 फीसदी एफएससी प्रमाणित होनी चाहिए।इसी कड़ी में, गैबॉन के अधिकांश वन रियायतकर्ता अपने एफएससी सर्टिविकेशन पर काम कर रहे हैं। गैबॉन में 2,000,000 हेक्टेयर से अधिक वन रियायतें पहले से ही एफएससी प्रमाणित हैं और यह उम्मीद की जा रही है कि 2021 के अंत तक 2,000,000 हेक्टेयर अतिरिक्त वन रियायतों को उनके एफएससी सर्टिफिकेशन मिल जाएंगे। यह यूरोप, अमेरिका आदि के हाई वैल्यू मार्केट के लिए लकड़ी के उत्पादों को प्रोसेसिंग और निर्यात करने के लिए एफएससी प्रमाणित कच्चे माल (लॉग) की प्रचुर उपलब्धता प्रदान करेगा।

 

You may also like to read

shareShare article